Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

ब्यूरो, (आख़िर क्यों न्यूज़, वरिंदर शर्मा): पत्रकारों पर बढ़ते उत्पीड़न के मामले चिंता का विषय है बनते जा रहे हैं जो कि स्वस्थ लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत नहीं है।

उत्तर प्रदेश के बलिया का मामला हो जहां तीन पत्रकारों को अकारण जेल की सलाखों के पीछे महीनों के लिए डाल दिया गया मध्य प्रदेश के सीधी में पत्रकारों को अर्ध नग्न करके लॉक अप में डाल दिया गया इसी तर्ज पर उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के महाराजगंज थाने में एक पत्रकार चंदन जायसवाल को निर्वस्त्र करके रात के अंधेरे में टॉर्च दिखा दिखा कर के वीडियो बनाकर वायरल किया गया उक्त सभी बातें चौथे स्तंभ को घायल करने के लिए जहां एक तरफ पर्याप्त है वही पत्रकारों के प्रति नौकरशाहों के रवैया को प्रदर्शित करती हैं। वैसे नौकरशाहों माफियाओं एवं खाकी खादी का यूं विचलित होना बताता है कि यह लोग पत्रकारों से और अपनी काली सच्चाई से कितने भयभीत हैं। पत्रकार प्रोटक्शन कानून, पत्रकार आयोग एवं पत्रकारों के हित के लिए विभिन्न मांगो को लेकर एक ज्ञापन जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया (रजि.) के पदाधिकारियों ने फतेहपुर में एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति को एक ज्ञापन सौंपते हुए उनसे माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी तक पहुंचाने की मांग की जिस पर केंद्रीय मंत्री ने आश्वासन दिया कि आपका यह ज्ञापन मैं माननीय प्रधान मंत्री तक पहुंचा दूंगी और मुझसे जो सहयोग बन सकेगा मैं खुले दिल से आपके सहयोग के लिए सदैव तत्पर रहूंगी ।इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार राजा अवस्थी जर्नलिस्ट काउंसिल आफ इंडिया (रजि.) के राष्ट्रीय सलाहकार समिति के सदस्य डॉ आर सी श्रीवास्तव, मोहित दुबे, तान्या उत्तम, रवि प्रजापति ,प्रिया सिंह, सरोज निषाद ,कलीम अहमद, सुजीत तिवारी, संदीप निषाद सनी सहित कई पत्रकार एवं पदाधिकारी मौजूद रहे।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

By aakhirkyon

Its a web portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed