Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

आई.के.जी.पी.टी.यू के सिविल इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स एन.एच.ए.आई से मिलकर करेंगे काम

यूनिवर्सिटी ने 6 बिंदु के विकास एजेंडे पर एन.एच.ए.आई के साथ एम.ओ.यू पर किए हस्ताक्षर

Advertisements
Advertisements

*यह समझौता ज्ञापन यूनिवर्सिटी फैकल्टी एवं स्टूडेंट्स को सीखने के बेहतर अवसर प्रदान करेगा: वीसी प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा

Advertisements

जालंधर/कपूरथला 7 जनवरी (आखिर क्यों न्यूज़) : अपने स्टूडेंट्स एवं फैकल्टी को व्यावहारिक शिक्षा प्रदर्शन प्रदान करने के लक्ष्य के साथ, आई.के.गुजराल पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी (आई.के.जी.पी.टी.यू) जालंधर-कपूरथला ने नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (एन.एच.ए.आई) के साथ समझौता ज्ञापन (मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग-एम.ओ.यू) पर हस्ताक्षर किए हैं। इस एम.ओ.यू में विकास एवं सीखने का छह सूत्रीय एजेंडा रखा गया है। एमओयू के तथ्य साझा करते हुए, यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा ने बताया कि इसके तहत सिविल इंजीनियरिंग के स्टूडेंन्ट्स आवधिक जांच करेंगे एवं मौजूदा राजमार्ग संपत्ति की दक्षता में सुधार के लिए उपयुक्त सुझाव देंगे! इसमें विभिन्न पहलुओं को शामिल किया जाएगा, जैसे कि मौजूदा कमियों को दूर करके सुरक्षा प्रावधानों में सुधार, नई तकनीकों का उपयोग करते हुए निरंतर रखरखाव से जुड़े तथ्य एवं भरी ट्रैफिक को घटने के लिए स्थानीयकृत समाधान इत्यादि शामिल हैं! इसके इलावा यातायात की औसत गति एवं बेहतर यातायात वयवस्था पर भी स्टूडेंट्स, फैकल्टी एवं शोधकर्ता काम करेंगे!

 

एम.ओ.यू पर यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार इंजीनियर संदीप कुमार काजल एवं एनएचएआई चंडीगढ़ के क्षेत्रीय अधिकारी (आरओ) इंजीनियर आर.पी.सिंह ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। रजिस्ट्रार इंजीनियर काजल ने बताया कि स्टूडेंट्स वर्तमान स्थिति पर नवीन तकनीकों के आधार पर लागत प्रभावी उपायों के माध्यम से यह भी बताने में मदद करेंगे कि सड़क पर सवारी आराम से कैसे सफर करे एवं इसमें सुधार पर भी काम करेंगे! एजेंडे का हवाला देते हुए डॉ. राजीव चौहान, हेड सिविल इंजीनियरिंग आई.के.जी पी.टी.यू ने कहा कि मौजूदा ट्रैफिक पैटर्न के आधार पर सड़क उपयोगकर्ताओं के लिए नए तरीके की सुविधाएं एवं स्थानीय लोगों के अनुभव के आधार पर पुरानी समस्याओं के हल के लिए उपयोगी संभावित समाधान भी जुटाए जायेंगे!

 

उल्लेखनीय है कि एन.एच.ए.आई भारत में राजमार्ग के नियोजन, डिजाइनिंग एवं निष्पादन में प्रमुख संस्था है। इस अवसर पर वीसी सचिवालय के डॉ हितेश शर्मा एवं सिद्धार्थ भटनागर, साइट इंजीनियर, एनएचएआई उपस्थित थे।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

By aakhirkyon

Its a web portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed