Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

जालंधर ब्यूरो :(आखिर क्यों न्यूज़) जालंधर में नवजीवन अस्पताल में भर्ती करवाई गई गर्भवती महिला की नस कटने से मौत हो गई। गर्भवती महिला के पारिवारिक सदस्यों ने अस्पताल प्रबंधन व डॉक्टरों पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह कल 12 बजे सोनिका पत्नी सन्नी वासी बस्ती पीर दाद को लेकर अस्पताल पहुंचे और रात को 11 बजे के करीब नार्मल डिलीवरी भी हुई। जिसके बाद बड़ी देर तक हमें मां-बच्चे से मिलने तक नहीं दिया गया जब देखा तो 2 घँटे तक वह अंदर महिला को पंप देते रहे पर जब अंदर जाकर देखा तो महिला की नब्ज़ तक नहीं चल रही थी फिर 2 घँटे बाद उन्होंने हमें कहीं ओर लेजाने को बोल दिया। परिजनों ने कहा कि डॉक्टरों की लापरवाही से महिला की मौत हुई है और मामले को दबाने के लिए उन्होंने अस्पताल से कहीं और ले जाने को कहा। परिजनों ने मामले को लेकर पुलिस को शिकायत दी है जिसके बाद मौके पर पहुंचे थाना भार्गव कैंप के प्रभारी भगवंत भुल्लर ने बताया कि डिलीवरी के महिला की ब्लीडिंग नहीं रुक रही थी। जिसके बाद अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें रैफर करने की बात कही उसी दौरान महिला की मौत हो गई। उन्होंने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में भेज दिया है और मामले की जांच की जा रही है। नवजीवन अस्पताल के डॉ. सूद ने बात को नकारते हुए कहा कि उनके यहां नार्मल डिलीवरी हुई, नस कटने का सवाल तब उठता जब ऑपरेशन से डिलीवरी होती। उन्होंने कहा कि महिला को डिलीवरी के दौरान अटैक आया था जब उसे पता चला कि उसे लड़की हुई है। तब उन्होंने डी.एम.सी. ले जाने के लिए कहा था लेकिन वह जालंधर में ही इधर-उधर ले गए और मौत होने पर अस्पताल के बाहर आकर खड़े हो गए। गर्भवती के परिजनों ने अस्पताल को कोई भी रिपोर्ट नहीं सौंपी कि वह पहले कहां से इलाज करवाते रहे। हो सकता है महिला कोरोना पॉजीटिव हो, बाकी मौत का सवाल तो पोस्टमार्टम में क्लीयर हो जाएगा।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

By aakhirkyon

Its a web portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.