Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

जालंधर, 21 अगस्त( आखिर क्यों न्यूज़ ) भाजपा जालंधर के पूर्व जिला अध्यक्ष रमेश शर्मा ने पंजाब में कोरोना महामारी से बढ़ते हुए मरीजों की संख्या पर चिंता व्यक्त करते हुए सरकार द्वारा एक प्रभावी योजना बनाए जाने की जरूरत पर ध्यान आकर्षित किया है। देश में कोरोना के आने के बाद से हालात बिगड़ते जा रहे हैं। हर दिन कोरोना रोगियो की संख्या बढ़ती जा रही है। इसमें मुख्यता लोगों की लापरवाही बड़ा कारण है। सरकार द्वारा इस विषय में कोई भी प्रयास न करना चिंता का विषय बना हुआ है। प्रशासन करोना मरीजों की संख्या कम करने के लिए कोई उचित उपाय नहीं कर रहा। सरकार का पूरा जोर वाहनों की बार-बार चेकिंग और उनके चलानो पर लगा हुआ है । दफ्तरी कामकाज कोरोना की भेंट चढ़ चुके हैं। जिस दिन कोरोना रोगियों की संख्या कम होती है सरकार अपनी पीठ स्वयं थप-थपा लेती है, जबकि उसमें उसका कोई भी प्रयास नहीं होता। लोगों को इस बीमारी से बचाने के लिए विशेष प्रयासों की जरूरत है। सरकार द्वारा निश्चित रूप से एक कार्य योजना की घोषणा की जानी चाहिए, उस योजना पर सख्ती से अमल होना चाहिए। आजकल सप्ताह में 2 दिन का लॉक-डाउन घोषित है, इस हिसाब से 42 दिन अर्थात 6 सप्ताह में 12 दिन का लॉक-डाउन हो जाता है, साथ में रात्रि कर्फ्यू भी है । यदि सरकार सख्त निर्णय द्वारा 10 दिन की तैयारी का समय देकर अगले 10 दिन का सख्त कर्फ्यू लगा दे तो इस बीमारी से बहुत हद तक बचाव किया जा सकता है। तब तक दवाई आने में भी कम समय रह जायेगा। इस योजना को सफल बनाने के लिए लोगों को घर का सामान खरीदने के लिए 10 दिन का समय दिया जाए। लोग गैस के सिलेंडर , सूखा राशन, सूखा दूध घरों में 10 दिन के लिए व्यवस्था करें, कुछ दिनों की सब्जी भी रखी जा सकती है, डायरी वालों का दूध सीधा मिल्क प्लांट वहीं से उठाएं, पशुओं के लिए सूखे चारे की व्यवस्था करनी होगी। इस संकट के समय में दुकानदार लोगों को लूटे नहीं, हर सामान की कच्ची या पक्की रसीद मिलनी चाहिए ताकि लूट मचाने वालों पर बाद में सख्त कार्रवाई की जा सके। पहले भी बहुत बार ऐसा होता रहा है जब वर्षा 7 से 10 दिन तक चली है तब भी लोग घरों में रहते हैं। जरूरी दवाई लोग 10 दिन की जमा करेंगे। सक्षम पड़ोसी दूसरे जरूरत- मंदों की सहायता करेंगे। प्रत्येक वार्ड अथवा क्षेत्रीय इकाई का हेल्पलाइन नंबर जारी किया जाएगा। केवल अकस्मात चिकित्सा ही उपलब्ध होगी। देश को संकटकाल से बचाने के लिए सख्त निर्णय लेने होंगे, जनता और सरकार मिलकर ही इससे पार जा सकते हैं।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

By aakhirkyon

Its a web portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed