Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

ब्यूरो: (आखिर क्यों न्यूज़) : एक तो कोरोना वायरस के संकट से पूरी दुनिया परेशान है, उस पर एक नई मुसीबत धरती की तरफ बढ़ रही है।
नासा  ने एक ऐसे उल्का पिंड  की पहचान की है जो धरती की ओर तेजी से बढ़ रहा है।
वॉशिंगटन। कोरोना वायरस के संकट से पूरी दुनिया परेशान है। ऐसे में आसमान से एक बार आफत आने वाली है। अंतिरिक्ष एजेंसी नासा ने एक ऐसे उल्का पिंड की पहचान की है जो धरती की ओर तेजी से बढ़ रहा है। एजेंसी ने अपने अलर्ट में कहा कि एक करीब आधा किलोमीटर बड़ा एक धरती  की तरफ तेजी से आ रहा है। इसकी रफ्तार करीब 5.2 किलोमीटर प्रति सेकेंड है।
ये उल्का पिंड 6 जून को धरती की कक्षा में दाखिल होगा। नासा ने इस उल्का पिंड का नाम रॉक-163348 रखा है ,और ऐसी संभावना जताई जा रही है कि कि ये 6 जून को पृथ्वी की सतह के बहुत करीब से गुजरेगा।  ये उल्का पिंड सूर्य के करीब से गुजरता हुआ धरती की कक्षा में दाखिल हो रहा है। बीती 21 मई को भी 1.5 किलोमीटर बड़ा उल्का पिंड धरती के काफी करीब से होकर गुजरा था। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस उल्कापिंड की धरती से टक्कर होने की संभावना नहीं है लेकिन इस पर नजर रखना जरूरी है, क्योंकि कभी-कभी गुरुत्वाकर्षण के चलते इस तरह के उल्का पिंड पृथ्वी के परिवेश में आखिरी समय पर भी प्रवेश कर जाते हैं।
नासा के मुताबिक, यह
उल्का पिंड धरती के पास से रविवार को सुबह 8:20 पर गुजरेगा। धरती के इतने पास से इतना बड़ा कोई उल्का पिंड इसके बाद साल 2024 में ही गुजरेगा। इसकी गति 5.2 किमी प्रति सेकेंड है यानी यह उल्कापिंड 11,200 मील प्रति घंटा की रफ्तार से आ रहा है।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

By aakhirkyon

Its a web portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed